Personalized
Horoscope

Mesh Masik Rashifal in Hindi - Mesh Horoscope in Hindi - मेष मासिक राशिफल

Aries Rashifal

स्वास्थ्य: स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से देखें तो महीने की शुरुआत में आपकी राशि का स्वामी बारहवें स्थान में रहेगा और महीने भर इसी राशि में रहेगा, जिसकी वजह से स्वास्थ्य के मामले में आप थोड़े परेशान हो सकते हैं, क्योंकि इस मंगल पर शनि की दृष्टि भी होगी, जिसकी वजह से आपको आंखों से संबंधित कोई पीड़ा हो सकती है अथवा अनिद्रा की समस्या भी हो सकती है। इसके अतिरिक्त कोई छोटी मोटी चोट लगने की भी संभावना रहेगी। ध्यान दें किसी भी चीज को नज़रअंदाज़ ना करें, नहीं तो यह इतनी बड़ी हो सकती है कि आपको हॉस्पिटल जाना पड़े। स्वास्थ्य के मामले में आपको यह भी ध्यान देना होगा कि आपको गले में, कान में अथवा जंघा पर किसी प्रकार का शारीरिक कष्ट महसूस हो सकता है। इसलिए इस दौरान विशेष रूप से अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें।

कैरियर: अगर आप के करियर की बात की जाए तो दशम भाव में बैठे हुए स्वराशि के शनिदेव आपके लिए बेहतर परिणामों की स्थिति धीरे-धीरे बनाते ही जा रहे हैं, जिसकी वजह से कार्यक्षेत्र में आपकी मेहनत रंग लाने लगेगी और आप के वरिष्ठ अधिकारी भी आप के पक्ष में खड़े नजर आएँगे। कार्य के संबंध में कुछ यात्राएं भी होंगी, जो शुरुआत में तो काफी थकान और परेशानी देने वाली होंगी, लेकिन धीरे-धीरे उनके अच्छे फल आपको दिखाई देने लगेंगे और इससे आपके कार्यक्षेत्र में और पद में वृद्धि होने की संभावना रहेगी। जो लोग टीम में काम करते हैं, उन्हें ध्यान रखना होगा कि अपने टीम मेंबर पर महीने के पूर्वार्ध में अधिक भरोसा ना करें और उनके जिम्मे कोई बड़ा काम ना सौंपे, अन्यथा आपको धोखा उठाना पड़ सकता है। हालांकि महीने का उत्तरार्ध अच्छा रहेगा। जो लोग व्यापार करते हैं, उनके लिए समय अनुकूल रहेगा और उनकी युक्तियों और योजनाओं की वजह से व्यापार में तरक्की प्राप्त होगी और बिज़नेस बढ़ेगा।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: प्रेमी युगल की बात की जाए तो इस महीने प्रेम जीवन में कुछ चुनौतियाँ आएँगी, लेकिन यह पूर्वार्ध में होगा, क्योंकि उत्तरार्ध आपके लिए काफी बेहतर रहने वाला है। आपका कोई दोस्त भी आपसे प्रेम का इज़हार कर सकता है या फिर आपको अपने किसी दोस्त में विशेष रुचि हो सकती है। इसके अतिरिक्त दोस्तों के साथ मौज मस्ती का अवसर मिलेगा और अच्छा समय बिताएंगे तथा अपने प्रियतम के प्रति आप संजीदा होकर सोचेंगे और उनके साथ अपने भविष्य की योजनाएं बनाएँगे। किसी तीसरे का हस्तक्षेप आपके रिश्ते में दिक्कतें लेकर आ सकता है, इसलिए महीने के पूर्वार्ध में विशेष रूप से सावधान रहें और किसी अन्य को अपने रिश्ते में दख़लअंदाज़ी ना करने दें। महीने के उत्तरार्ध में आप अपने प्रियतम को अपने परिजनों से मिलवा सकते हैं। उन्हें साथ लेकर कहीं घूमने जाने का प्लान भी बना सकते हैं। यदि आप शादीशुदा हैं, तो दांपत्य जीवन के लिए महीना सामान्य रहेगा, लेकिन सप्तम भाव पर मंगल और शनि की दृष्टि का प्रभाव होने के कारण दांपत्य जीवन में ना चाहते हुए भी थोड़ी सी असंतुष्टि और अशांति बनी रह सकती है, जिसकी वजह से आपको अपने दांपत्य जीवन से थोड़ी बोरियत महसूस हो सकती है, लेकिन आप एक समझदार व्यक्ति हैं, जो हर बात के दोनों पहलू को जानना पसंद करते हैं। बेहतर होगा कि आप अपने दांपत्य जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास करें और इसके लिए अपने जीवन साथी के साथ बैठकर समय बिताएं, उनसे बातचीत करें, ताकि आपसी बातचीत से समस्याओं को हल करके समय को आगे बढ़ाने और अपने दांपत्य जीवन का आनंद उठाने में कामयाब हों। इस दौरान आपका जीवन साथी किसी सुदूर यात्रा पर आपके साथ जा सकता है, विशेष रूप से किसी तीर्थ यात्रा पर। आप दोनों का मिज़ाज काफी धार्मिक होगा, जिसकी वजह से मन में धीरे-धीरे शांति आएगी।

सलाह: मेष राशि के जातकों को इस महीने मंगल के बीज मंत्र ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः का प्रतिदिन 108 की संख्या में जाप करना चाहिए। इसके अतिरिक्त आपको भगवान शिव की विधिवत पूजा उपासना करनी चाहिए और संभव हो तो रुद्राभिषेक का पाठ करना चाहिए। इसके अतिरिक्त राहु और सूर्य की युति तीसरे भाव में होने के कारण आपको राहु के निमित्त बुधवार के दिन काले तिलों का दान करना चाहिए और प्रतिदिन सूर्य उपासना करनी चाहिए, जिससे आपके मान और यश की हानि भी ना हो और आपके पिताजी का स्वास्थ्य भी अनुकूल रहे। इसके अतिरिक्त प्रतिदिन मस्तक पर केसर का तिलक लगाना आपके लिए अति उत्तम रहेगा।

सामान्य: मेष राशि के जातकों को इस महीने कोई भी ऐसा कार्य करने से बचना चाहिए, जो उनके मान को हानि पहुंचा सके। अपने भाइयों का सहारा बनें और उनकी हर संभव सहायता करें। इससे आपको भी मजबूती मिलेगी, क्योंकि आपके भाई बहन आपके साथ होंगे, तो आप हर काम में मजबूती से खड़े रह पाएंगे। दूसरे भाव में उपस्थित शुक्र परिवार में शुभ कार्य कराने की ओर इंगित करता है। यदि परिवार में अभी तक कोई शुभ कार्य नहीं हुआ हे, तो इस महीने होने की संभावना रहेगी। इसके अतिरिक्त तीर्थ यात्रा पर जाने की संभावना बनेगी। आपका आचरण काफी धार्मिक होगा और धर्म-कर्म के कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे, जिसकी वजह से समाज में सम्मान भी बढ़ेगा और आपका नाम भी होगा। स्वास्थ्य, परिवार और आर्थिक जीवन, इन तीनों ही मामलों में थोड़ा संभलकर इस महीने आपको चलना होगा, तभी आप स्थितियों से जीत हासिल कर पाएंगे।

वित्त: आर्थिक दृष्टिकोण से देखें तो इस महीने आपको मिश्रित परिणाम मिलेंगे, लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना ही होगा कि आपकी आमदनी पूर्व के मुकाबले थोड़ी कम हो सकती है, इसकी वजह यह है कि आपके खर्चे अधिक रहेंगे और ग्रहों की स्थिति आमदनी में भी कुछ कमी लेकर आ सकती है। आपको अपने स्वास्थ्य पर भी खर्च करने पड़ेंगे और इसके अतिरिक्त अपने माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति भी चिंतित होने के कारण उनके स्वास्थ्य पर भी आप खर्चा करेंगे। पारिवारिक दायित्वों की पूर्ति हेतु आपको घरेलू कार्यों पर भी खर्च करना पड़ेगा। इस प्रकार इस महीने आपके खर्चे आशातीत रूप से वृद्धि को प्राप्त होंगे, जिसकी वजह से आमदनी उसको पूरा कर पाने में सफल नहीं हो पाएगी और आप आर्थिक तौर पर थोड़े कमजोर रह सकते हैं। इसलिए अपने खर्चों में कटौती करने का अर्थ केवल सही कार्यों पर खर्च करने का पूरा प्लान बनाकर रखें, ताकि किसी भी प्रकार की समस्या से मुक्ति पाई जा सके और आर्थिक स्थिति को नीचे गिरने से रोका जा सके।

पारिवारिक: अगर आपके पारिवारिक जीवन पर दृष्टि डाली जाए तो महीने का पूर्वार्ध उत्तरार्ध की अपेक्षा कुछ अच्छा रहेगा। हालांकि उत्तरार्ध में स्थितियों में थोड़ा बदलाव आ सकता है, क्योंकि सूर्य जो आप के तीसरे भाव में गोचर कर रहा है, महीने के उत्तरार्ध में आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेगा, जहां पर शनि की दृष्टि दशम भाव से पड़ रही है। ऐसे में सूर्य और शनि के प्रभाव से आपके माता-पिता का स्वास्थ्य पीड़ित हो सकता है और आपके और उनके आपसी संबंध बिगड़ सकते हैं। घर में अशांति और असंतुलन हो सकता है। इस सब को बचाने के लिए आपको खुद आगे आना होगा और यह समझना होगा कि घर का वातावरण बेहतर बनाने के लिए आप क्या कर सकते हैं। दूसरे भाव में बैठा हुआ स्वराशि का शुक्र आपके कुटुंब को प्रेम पूर्ण वातावरण में बनाए रखेगा। आपको घर की किसी महिला का साथ लेकर परिवार के वातावरण को बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिए। छोटे भाई बहनों को साथ कुछ दिक्कतें हो सकती हैं, उनका ध्यान रखें और समय पड़ने पर उनकी आवश्यक रूप से सहायता करें।